एक गुलाब …


एक गुलाब को पाने का अरमां दिल में जगाया…
और फिर उसकी राहों को काँटों से सजाया…
ऐ जिन्दगी! छीन लिए पैरो से जूते भी तुने…
और अब पाया क्या तो फूल भी मुरझाया…

Advertisements

2 responses

  1. कल 09/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

  2. बहुत खूब

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: