Monthly Archives: July, 2012

वर्ना यह सड़क तो सीधे मेरे घर को जाती है…


दिल की गहराइयो से एक आवाज़ आती है…
तुझे देखने की तमन्ना मुझे यहाँ खीच लाती है…
बस एक तेरी ही खातिर कदम मोड़ लेती हु…
वर्ना यह सड़क तो सीधे मेरे घर को जाती है…

अब डर लगता है…


अब डर लगता है खुद से मुखातिब होने से …

न जाने किस अजनबी से मुलाकात हो जाये !!!