Monthly Archives: August, 2012

बस उतनी ही जिन्दगी है…


कुछ बहकी, कुछ खोई, कुछ उलझी सी जिन्दगी है…
जिसको जितनी समझ आई…बस उतनी ही जिन्दगी है…

Advertisements