ख़ामोशी का बाज़ार…


ख़ामोशी का बाज़ार यहाँ पे..तन्हाई के मेले है…
इस भीड़ भरी दुनिया में…सब कितने अकेले है…

Advertisements

2 responses

  1. यशवन्त माथुर | Reply

    इस भीड़ भरी दुनिया में…सब कितने अकेले है

    बहुत सच्ची बात कही स्वप्नगंधा जी।

    सादर

    1. हा आज की दुनिया की यही सच्चाई है…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: