Monthly Archives: July, 2015

आया था जो नींदे चुराने


आया था जो नींदे चुराने, कई सुहाने ख्वाब दे गया…
आया था जो दिल चुराने धड़कने बेहिसाब दे गया…

Advertisements